Video lectures for 9th, 10th, 11th and 12th Maths, Physics and Chemistry in Hindi and English Medium SSC CGL and SSC CHSL, IBPS CWE Clerk and PO, full notes, books , sample papers, previous year solved question papers free download. Free video course for avilable on www.sureshlecturer.blogspot.in

Tuesday, August 20, 2019

Class 10 Science Chapter 3 | Hindi Medium | धातु और आधातु

विज्ञान कक्षा 10    
अध्याय-3:  धातु एवं अधातु    


तत्वों को उनके गुणर्धर्मों के आधार पर धातु, अधातु तथा उपधातु में वर्गीकृत किया जाता है। वर्तमान में 118 तत्व ज्ञात है जिनमें से लगभग 90 धातु, 22 अधातु तथा कुछ उपधातु है।



धातुओं के उदाहरण- आयरन, कापर एल्यूमिनियम, कैलिशयम, मैग्नीशियम, सोडियम, लेड, जिंक पारा आदि
अधातुओं के उदाहरण- हाइड्रोजन, आक्सीजन, नाइट्रोजन, सल्फर, क्लोरीन, आयोडीन आदि।

धातुओं के भौतिक गुणधर्म-
  1. धात्विक चमक- शुद्ध धातु की सतह चमकदार होती है, धातु के इस गुण को धात्विक चमक कहते हैं।
Share:

Sunday, August 11, 2019

Class 11 Physics Chapter 3 Hindi Medium

सरल रेखा में गति (Motion in a Straight Line)

गति (Motion): समय के साथ साथ जब कोई वस्तु अपने परिवेश के  सापेक्ष अपनी स्थिति में परिवर्तन करती है तो वह वस्तु गतिशील कहलाती  है।
विराम अवस्था (Rest): समय के साथ साथ जब कोई वस्तु अपने परिवेश के  सापेक्ष अपनी स्थिति में परिवर्तन नहीं करती है तो वह वस्तु विराम अवस्था में होती है।

निर्देश तंत्र (frame of reference)  
किसी कण की स्थिति को दर्शाने के लिए हमें एक निर्देश तंत्र की आवश्यकता होती है।
इसके लिए एक समकोणिक निर्देशांक-निकाय जिसमें तीन परस्पर लम्बवत अक्ष होते हैं जिन्हें x, y- तथा z-अक्ष कहते हैं। समय नापने के लिए इस निकाय में एक घड़ी रख देते हैं। घड़ी सहित इस निर्देशांक-निकाय को निर्देश तंत्र (frame of reference) कहते हैं।
जब किसी वस्तु के एक या अधिक निर्देशांक समय के साथ परिवर्तित होते हैं तो वस्तु को गतिमान कहते हैं। अन्यथा वस्तु को उस निर्देश तंत्र के सापेक्ष विरामावस्था में मानते हैं।
Share:

www.sureshlecturer.com

Advertisements

Sponsored Links

Sponsored Link

Free Online Coaching